गुरुवार, 25 दिसंबर 2008

सुनो...सुनो...सुनो... इरफ़ान भाई के चंद गंदे गाने!

प्रिय मित्रो, चूंकि इस पोस्ट का उद्देश्य पूरा हो चुका है इसलिए इसे यहाँ से हटाया जा रहा है- ब्लॉग ओनर

गुरुवार, 18 दिसंबर 2008

रोशन-ख़याली की मिसाल थे बहादुरशाह ज़फ़र

'१८५७ के प्रथम स्वतंत्रता सेनानी और बहादुरशाह ज़फ़र' पुस्तक का जिक्र मैंने इसी ब्लॉग में पिछले दिनों किया था, उसकी भूमिका है यह. पुस्तक के संकलनकर्ता-संयोजक और लेखक डॉक्टर विद्यासागर आनंद ने इसे लिखा है. इस भूमिका की यह आख़िरी कड़ी है- विजयशंकर चतुर्वेदी)


(पिछली कड़ी से जारी)

...यह एक अजीब पर इतिहास का विषम तथ्य है कि जिस प्रतापमयी व्यक्तित्व ने अपना देश स्वतन्त्र करने के लिए संघर्ष किया उसकी लाश यथासमय एक विदेशी धरती में दफ़न है. हम और इस पुस्तक में लिखने वाले सभी लोग भारत सरकार से मांग करते हैं कि भारतीय स्वतंत्रता-संग्राम में भाग लेने वाले जियाले सपूतों के महानायक तथा सम्मान योग्य भारतीय सपूत के साथ न्याय किया जाए और उनकी लाश को पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनके पैतृक देश में लाकर दफ़न किया जाए. यह व्यक्तित्व निस्संदेह ही भारत के लिए गौरव का स्रोत है और स्वतन्त्र भारत को इसका आभारी और शुक्रगुज़ार होना चाहिए.

सन् १८५७ की याद में आयोजित किए गए एक सौ पचास वर्षीय समारोह के अवसर पर उर्दू के सुप्रसिद्ध शायर गुलज़ार ने लाल क़िला परिसर में हमारे मनोभाव का सीधा-सच्चा प्रतिनिधित्व करते हुए सरकार की ओर से आयोजित इस समारोह में यह इच्छा प्रकट की थी कि बहादुरशाह ज़फ़र की लाश को वापस दिल्ली लाया जाए. भारतीय राष्ट्र के विभिन्न चिंतन-समूह के प्रतिनिधियों ने उनके विचारों की खुले मन-मस्तिष्क से प्रशंसा व सराहना की. खेद का विषय है कि इस बड़ी ऐतिहासिक ग़लती के सुधार के लिए कोई क़दम नहीं उठाया गया.

आने वाली पीढियाँ इस बात का निर्णय करती हैं कि राष्ट्र अपने शहीदों के प्रति किस प्रकार का बर्ताव करता है. इस पृष्ठभूमि में देखा जाए तो लगता है कि भारतीय जनता बहादुरशाह ज़फ़र की लाश को भारत लाकर इस धरती में दफ़न करना चाहती है तथा उनके मज़ार पर उचित 'कत्बा' लगाना चाहती है परन्तु भारत के सत्ताधारी लोग इस 'जनमत' को महत्त्व नहीं दे रहे हैं

बहादुरशाह ज़फ़र हिन्दी, उर्दू, फ़ारसी और पंजाबी भाषाएँ धारा-प्रवाह बोलते थे. उन्होंने इन भाषाओं में अनेक नज़्में, ग़ज़लें कही हैं. इनमें उन्होंने धार्मिक सहिष्णुता का प्रबल शब्दों में समर्थन किया है तथा धार्मिक उन्माद, कट्टरता, घृणा और असहिष्णुता की खुली भर्त्सना व निंदा की है. आज भारत को ऐसे लोगों की बड़ी आवश्यकता है जो बहादुरशाह ज़फ़र जैसी सोच, व्यापक-हृदयता, सच्चाई और रोशन-ख़याली के प्रतीक हों. मौजूदा हालात में, जब धार्मिक कट्टरता से वातावरण दूषित किया जा रहा है बहादुरशाह ज़फ़र के व्यक्तित्व और कटिबद्धता से सहनशीलता के प्रचार-प्रसार की बड़ी आवश्यकता है.

मेरे पास शब्द नहीं और मेरी समझ में नहीं आ रहा है कि मैं उन सब महानुभावों को कैसे धन्यवाद दूँ जिन्होंने इस पुस्तक के लिए अपने बहुमूल्य समय में से वक़्त निकालकर हमारे निवेदन पर लेख लिखे और अपने सुझाव भी दिए, मेरी सहायता की और साहस बढ़ाया.

साहिर शीवी और सैयद मैराज जामी की पत्रिका 'सफ़ीरे उर्दू' के द्वारा हमें बहुत से लेख प्राप्त हुए. 'सफ़ीरे उर्दू' का बहादुर शाह ज़फ़र विशेषांक मेरे ही निवेदन पर प्रकाशित किया गया था. बारह वर्ष पूर्व मोइनुद्दीन शाह साहब (मरहूम) ने अपनी पत्रिका 'उर्दू अदब' का बहादुरशाह ज़फ़र विशेषांक प्रकाशित कर ज़फ़र को श्रद्धांजलि दी थी. इस पुस्तक में कुछ लेख उल्लिखित विशेषांक से भी लिए गए हैं. अंत में उर्दू के विश्वसनीय लेखक व प्रकाशक 'खादिम-ए-उर्दू' (उर्दू-सेवक) प्रेमगोपाल मित्तल साहब की सेवाओं को भी नहीं भुलाया जा सकता जिन्होंने प्रस्तुत पुस्तक की साज-सज्जा में अपना बहुमूल्य समय लगाया.(समाप्त)

-डॉक्टर विद्यासागर आनंद

पुस्तक: '१८५७ के प्रथम स्वतंत्रता सेनानी और बहादुरशाह ज़फ़र', सम्पादक: डॉक्टर विद्यासागर आनंद, प्रकाशक: माडर्न पब्लिशिंग हाउस, ९ गोला मार्केट, दरियागंज, नई दिल्ली-११०००२. पृष्ठ ५७६, मूल्य ६०० रूपए.

बुधवार, 17 दिसंबर 2008

पंडित नेहरू भी यही चाहते थे: सन्दर्भ ज़फ़र

(पहली कड़ी में चंद अभद्र प्रतिक्रियाएँ मिली थीं. आप कल्पना कर सकते हैं कि ब्लॉग जगत में मौजूद कुछ विशेष मानसिकता के लोगों से बचाव का एक ही तरीका है- टिप्पणी मोडरेटर. जिन लोगों को ज़फ़र या मुस्लिम कौम से नफ़रत है और उनके बारे में यहाँ लिखे जाने से परेशानी है उन्हें चाहिए कि वे मेरी स्वतंत्रता सेनानियों पर लिखी गयी सीरीज इसी ब्लॉग पर ढूंढ कर पढ़ें. जिन अमर शहीदों के नाम भी इन्होंने नहीं सुने होंगे, उनके बारे में लिखा गया है. समयानुसार आगे भी लिखूंगा. यह डॉक्टर विद्यासागर आनंद लिखित भूमिका की दूसरी कड़ी है- विजयशंकर चतुर्वेदी)



पिछली कड़ी से आगे...

...स्वतंत्रता-दीप प्रज्ज्वलित रखने के लिए राष्ट्र को संगठित व अनुशासित रखना आवश्यक था अतः देश के राजनैतिक व धार्मिक पथ-प्रदर्शकों एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं ने स्वतंत्रता आन्दोलन को भारत के कोने-कोने तक फैला दिया. इनमें कुछेक तो भारत से बाहर के अन्य देशों तक चले गए तथा वहाँ स्वतंत्रता-आन्दोलन को सुदृढ़ बनाने हेतु सहायता प्राप्त करने के प्रयत्न किए.

इस लंबे स्वतंत्रता-आन्दोलन का उद्देश्य अंततः नब्बे वर्ष बाद १५ अगस्त १९४७ को तब जाकर प्राप्त हुआ, जब पंडित जवाहरलाल नेहरू ने बहादुरशाह ज़फ़र के पूर्वजों के लाल क़िले से स्वतन्त्र भारत की घोषणा की. उस ऐतिहासिक दिवस से अब तक साठ वर्ष का (भूमिका लिखे जाते समय) समय बीत चुका है लेकिन खेद की बात है कि इस बीच भारत के राजनेताओं ने इस स्वतंत्रता-संग्राम में देश के बाहर व भीतर शहीद होने वाले जियालों के सम्मान को बढ़ावा देने में ढिलाई बरती और उन्हें वह स्थान नहीं दिया जिसके वे अधिकारी थे.

यहाँ अधिक अफ़सोस की बात यह है कि स्वयं पंडित जवाहरलाल नेहरू ने ज़फ़र के अवशेष भारत लाने का समर्थन किया था पर नामालूम कारणों से इस दिशा में कोई क़दम नहीं उठाया गया. १ से ७ अक्टूबर के साप्ताहिक 'हमारी ज़बान' नई दिल्ली में इस विषय पर पंडित नेहरू का एक नोट प्रकाशित हुआ जिसके अनुसार उन्होंने तत्कालीन गृह मंत्री पंडित गोविन्द वल्लभ पन्त को लिखा था:-
“मौलाना साहब (आशय मौलाना अबुल कलाम आज़ाद से है) की राय है कि बहादुरशाह ज़फ़र की लाश को रंगून से लाकर हुमायूं के मक़बरे में दफ़नाया जाए क्योंकि स्वयं उनकी भी अन्तिम इच्छा यही थी. मैं इस विषय में अपनी कैबिनेट के कुछ मंत्रियों से बात कर चुका हूँ और उन्हें इस पर कोई आपत्ति नहीं है."


नेहरू जी ने इसी नोट में आगे लिखा:-
"संभवतः बर्मा सरकार को भी इस पर कोई आपत्ति नहीं होगी. मैं इस सुझाव के विषय में आपकी प्रतिक्रिया जानना चाहता हूँ, तत्पश्चात् हम इस मामले की और अधिक तफ़्तीश कर सकते हैं."

पंडित जवाहरलाल नेहरू ने बहादुरशाह ज़फ़र की अन्तिम इच्छा का उल्लेख करते हुए हुमायूं के मक़बरे में दफ़न होने की इच्छा बताई है जो किसी भ्रम के कारण है वरना तथ्य यह है कि ज़फ़र ने अपने दफ़न के लिए क़ुतुबुद्दीन बख्तियार काकी के निकट ही अपने पूर्वजों के पहलू में अपने लिए एक स्थान आरक्षित किया हुआ था. मिर्ज़ा फ़रहतुल्ला बेग अपने बहुचर्चित लेख 'फूल वालों की सैर' (सन् १९३४) में लिखते हैं:-

'देहली के बादशाहों ने आप (हज़रत क़ुतुबुद्दीन बख्तियार काकी) के मज़ार के चारों ओर संगमरमर की जालियाँ, फर्श और दरवाज़े बनवा दिए. दीवारों पर काशानी ईंटों का काम करवाया तथा आसपास मस्जिदें अदि बनवाईं... एक ओर तो संगमरमर की छोटी मस्जिद है और उसके पहलू में अन्तिम समय के बादशाहों के कुछ मज़ार हैं. बीच में शाहआलम द्वितीय का मज़ार है और उसकी एक ओर अकबरशाह द्वितीय की क़ब्र का एक पहलू ख़ाली था, उसमें बहादुरशाह ज़फ़र ने अपना 'सरवाया' (सुरक्षित स्थान) रखा था. विचार था कि मरने के बाद बाप-दादा के पहलू में जा पड़ेंगे, यह क्या मालूम था कि वहाँ क़ब्र बनेगी, जहाँ पूर्वजों का पहलू तो दूर की बात, कोई फ़ातिहा पढ़ने वाला भी न होगा.' (मज़ामीन-ए-फ़रहत (द्वितीय) लेख 'बहादुरशाह ज़फ़र और फूल वालों की सैर', प्रकाशक सरफ़राज़ प्रेस लखनऊ, पृष्ठ ४२).

प्रथम स्वतंत्रता-संग्राम के एक सौ पचास वर्षीय जश्न के अवसर पर बहादुरशाह ज़फ़र के लाल क़िले (जिसका प्रथम स्वतंत्रता-संग्राम से निकट का सम्बन्ध रहा है) के समकालीन व्यवस्थापकों को इस विषय पर एक संदेश भेजा गया. इसके अतिरिक्त भारत के विभिन्न क्षेत्रों के लोगों और प्रवासी भारतीयों से भी हमने संपर्क साधा तथा बहादुरशाह ज़फ़र के अवशेष वापस अपने देश में लाने की मांग पर ध्यान देने का निवेदन किया. हमें इसकी ख़ुशी है कि अनेक लेखकों, शायरों, इतिहासकारों, पत्रकारों तथा बुद्धिजीवियों ने हमारे निवेदन को सहर्ष स्वीकारते हुए हमें अपनी रचनाएं भिजवायीं. इसके साथ ही उन्होंने हमारी इस मांग का समर्थन भी किया कि बहादुरशाह ज़फ़र के अवशेष विदेश से वापस अपने देश लाये जाएँ.


अगली कड़ी में जारी...

मंगलवार, 16 दिसंबर 2008

उनमें ऐसा आदमी था इक बहादुरशाह ज़फ़र

(जिस पुस्तक '१८५७ के प्रथम स्वतंत्रता सेनानी और बहादुरशाह ज़फ़र' का जिक्र मैंने अपने ब्लॉग 'आज़ाद लब' में पिछले दिनों किया था, उसकी भूमिका है यह. पुस्तक के संकलनकर्ता और संयोजक डॉक्टर विद्यासागर आनंद ने यह भूमिका लिखी है. आलेख की भाषा अवश्य अधिक चुस्त नहीं है, लेकिन विश्वास है कि इसमें व्यक्त की गयी तीव्र भावना पाठकों को ईमानदार लगेगी. यही भूमिका कुछ कड़ियों में प्रस्तुत की जा रही है- विजयशंकर चतुर्वेदी)
क्या नहीं हमने किया आज़ाद होने के लिए
खून भी अपना बहाया शाद होने के लिए
ताकि हम आज़ाद हों, अपने वतन में शान से
उर दिया बुझने न दें लड़ते रहें तूफ़ान से
हक़ हमारा था कि आज़ादी को फिर हासिल करें
मात अंग्रेज़ों को देने में जिएँ या हम मरें
पेशे-आज़ादी हमारी ज़िंदगी क्या चीज़ है
उर गुलामी को मिटाने जान भी क्या चीज़ है


गुलामी से मुक्ति तथा विदेशी प्रभुत्व व प्रभुसत्ता से आज़ादी पाने के लिए सम्पूर्ण राष्ट्र ने एकजुट होकर स्वतंत्रता-संकल्प लिया था. अपने जान-माल की परवाह किए बिना तथा परिणाम के बारे में सोचे बिना, कफन को लहू में डुबोकर अपने सिरों से बाँध लिया था.

सन १८५७ का भयावह काल वास्तव में भारतीय राष्ट्र की अनगिनत कुर्बानियों व बलिदान की दास्तान है. एक ऐसी दास्तान जिसका आरंभ बहादुरशाह ज़फ़र के व्यक्तित्व से हुआ- वे पवित्र परन्तु क्षीण हाथ- जिन पर सारे हिन्दुओं, मुसलमानों व सिखों ने आस्था रखी, उन पर विश्वास रखा; जिसके कारण ही आज हम भारत को स्वतन्त्र देख रहे हैं. वह वास्तव में हमारे नब्बे वर्ष के लंबे संघर्ष का ही फल है.

आज़ादी की इच्छा एक ऐसी इच्छा थी जिसने विमुखता, अवज्ञा और नाफ़रमानी को जन्म दिया. अंग्रेज़ों ने इसे 'ग़दर' का नाम दिया, जिससे जाग्रति की एक ऐसी किरण फूटी; एक ऐसा सूर्य उदय हुआ जिससे अंग्रेज़ों को अपने पतन का आभास होने लगा. यह एक ऐसा संघर्ष था, एक ऐसा प्रकाश था जिसने अंग्रेज़ों के इरादों को जला देने के लिए चिंगारी का काम किया. तमाम भारतीयों के मन में विदेशी-प्रभुत्व तथा गुलामी का फंदा अपने गले से उतार फेंकने के सुदृढ़ संकल्प थे. किसी ने क्या ख़ूब कहा है-

'रोशनी आग से निकली है जला सकती है.'

सन् १८५७ के बाद बहादुरशाह ज़फ़र को अत्यन्त बेइज्जती एवं तौहीन भरे बर्ताव का सामना करना पड़ा था. आज़ादी का चिराग जलानेवाले इस अन्तिम मुग़ल शासक को रुसवा करके बड़ी दयनीय स्थिति में घर से हज़ारों मील दूर कैदखाने में भेज दिया गया तथा भारतीय नागरिकों पर भी अत्याचारों का पहाड़ तोड़ा गया. उन्हें गोलियों का निशाना बनाया गया. मासूम बच्चों को रौंदा गया तथा पवित्र नारियों की शीलता को तार-तार किया गया. इन अत्याचारों और सख्तियों के कारण भारतीयों में स्वतंत्रता-संग्राम की उमंग और बढ़ गयी, अधिक प्रबलता प्राप्त हुई और वे देश पर मर-मिटने के लिए तैयार हो गए. मजरूह सुल्तानपुरी का एक शेर है-
'सतून-ए-दार प रखते चलो सरों के चराग़
जहाँ तलक ये सितम की सियाह रात चले.'

इन सामूहिक संकल्पों और निरंतर संघर्ष का तर्क-संगत परिणाम सन् १९४७ में सामने आया. यह एक कठिन समय था जिसमें अनेक उत्त्थान-पतन हुए. आज़ादी की लड़ाई को विभिन्न स्तरों पर लड़ना पड़ा.

बहादुरशाह ज़फ़र को यद्यपि इतिहासकार एक पीड़ित और बेबस बादशाह के रूप में प्रस्तुत करते हैं पर आम व्यक्ति के दिल में उनके लिए स्नेह, मान और हमदर्दी के भाव मिलते हैं. वर्त्तमान में स्वयं को न्यायप्रिय कहलवाने वाला राष्ट्र (यहाँ आशय ब्रिटिश साम्राज्य से है), जिसने भारत में अपना शासन बनाए रखने के लिए, संस्कृति, सभ्यता एवं मानवता के नियमों की धज्जियाँ उड़ा दीं, वह क्रूरतम शासकों में शामिल हुआ. अंगेज़ लेखकों ने उस काल के भयावह हालत का उल्लेख अपने लेखों में शायद ही पूरी ईमानदारी से किया हो. ज़ंजीरों में जकड़ा हुआ मासूम व बेबस बादशाह अपने बेटों की जाँ-बख्शी की भीख मांगता है तो तानाशाह उसके बेटों के सर काटकर थाल में सजा कर प्रस्तुत करता है;-

दे दिया जिसने आज़ादी का नारा वो ज़फ़र
अपने बेटों के सिरों को जिसने देखा वो ज़फ़र
ये ख़ुदा ही जानता है किस तरह ज़िंदा रहा
दूर जाकर अपने घर से बेनवां होकर मरा
फ़र्ज़ अब अपना है हिन्दुस्तान में लाएं उसे
इज्ज़त-ओ-तकरीम से देहली में दफ़नाएं उसे
परचम-ए-आज़ादी उसकी क़ब्र पर लहराएं हम
ताज-ए-आज़ादी अब उसकी नअश को पहनाएं हम
भूलने पाएं न उसकी याद को हम हश्र तक
आन उसकी कम न हो न माद हो उसकी चमक
हो शहीदों की चिताओं के मज़ारों की ज़िया
औ न हो पाए कभी ख़ामोश आख़िर तक सदा
ऐसे शोहदा जिनको अपनी जान की परवा न थी
देश-भक्ति में फना कर दी जिन्होंने ज़िंदगी
उनमें ऐसा आदमी था इक बहादुरशाह ज़फ़र
बेबसी में थी गुज़ारी जिसने हर शाम-ओ-सहर
उसकी क़ुरबानी को जो भूले नहीं वो आदमी
मीर-ए-आज़ादी को जो भूले, नहीं वो आदमी


अगली कड़ी में जारी...

सोमवार, 15 दिसंबर 2008

CYA मतलब 'कवर योर ऐस', RAB का मतलब क्या?

सुभाष घई की फ़िल्म 'सौदागर' का वह गाना तो आपको याद होगा- 'इलू का मतलब आई लव यू." आप सोच रहे होंगे कि यह मैं बेमौसम का राग क्यों अलापने लगा! बात दरअसल ये है कि मेरे एक मित्र ने जब मुझसे ४५९ का मतलब पूछा तो मैं निरुत्तर रहा. फिर दूर की कौड़ी लाकर कहा कि शायद ७६८ की तरह ही यह अल्लाह, ईश्वर या अन्य किसी देवी-देवता के पवित्र अंकों की व्यवस्था होगी.
विश्वास किया जाता है कि ७८६ का मतलब है -'बिस्मिल्लाहिर रहमानिर रहीम' जो कुरान की पहली आयत भी है.लेकिन मेरे मित्र ने राज खोला कि ४५९ का मतलब है 'आई लव यू'. फिर उसने समझाया कि मोबाइल हैंडसेट पर जिन बटनों को दबाकर आई लव यू के पहले अक्षर प्राप्त किए जाते हैं वे बटनें हैं ४५९. यह तथ्य मुझे ले गया पिछले ज़माने की एसएमएसिंग की तरफ़ जहाँ एक अनोखी भाषा गढ़ ली गयी थी संदेश भेजने के लिए. जैसे कि लेट के लिए 18 तथा बी राइट बैक के लिए brb इस्तेमाल होता था


हम सब जानते हैं कि भाषा विचारों की अभिव्यक्ति का माध्यम है. लेकिन युवा पीढ़ी को अभिव्यक्ति के लिए इतना समय कहाँ है. इसलिए हर पीढ़ी के युवा पूरे शब्द टाइप करने के बजाये अपना भाषा कोड ख़ुद गढ़ लेते हैं. कुछ भाषा विज्ञानी इस नई भाषा को ''टेक्सटीज' ' नाम दे रहे हैं. आपको यह जानकर ताज्जुब होगा कि जब सेलफोन की कल्पना भी नहीं की गयी थी, यानी द्वितीय विश्व युद्ध के ज़माने में, तब भी उस दौर के युवाओं ने 'सील्ड विथ अ लविंग किस' का शोर्ट कमांड SWALK ईजाद कर लिया था. ठीक आज की फिल्मों के संक्षिप्त नामों की तरह, जैसे कि दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे को डीडीएलजे या रब ने बना दी जोड़ी को आरएनबीडीजे कहना.

लेकिन आज एस एम एस की भाषा और जटिल हो गयी है. इसे डिकोड करना पुरानी पीढ़ी के लिए आसान नहीं है. बानगी पेश करता हूँ-

RAB का मतलब है- जिसके पास कोई रणनीति न हो या फिर ऐसा आदमी जो अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मार रहा है. यह कोड वर्ड जोनाथन रोस और रसेल ब्रांड (रोस एंड ब्रांड यानी आर एंड बी) नामक बीबीसी रेडियो-२ प्रेजेंटरों की दुर्गति से प्रेरित है जिन्होंने अभिनेता एंड्रयू सैच्स से ऑन-एयर फर्जी मजाकिया इंटरव्यू करके अपना कैरियर समाप्त कर लिया था.

कोड १८- यह उस व्यक्ति के लिए इस्तेमाल किया जाता है जिसके लिए 'टेक्नोलॉजी' काला अक्षर भैंस बराबर है. आईटी के लोग एक इस कोड का इस्तेमाल करते हैं जिसका अर्थ होता है कि गलती उपभोक्ता की है, सॉफ्टवेयर में कोई ख़राबी नहीं है.

GOOD job: यह नौवें दशक के get-out-of-debt पद से उठाया गया है जिसका दरअसल मतलब है बुरा काम.

४०४: मोबाइल पर अगर यह संख्या दिखे तो समझ जाइए कि कोई आपको 'क्ल्यूलेस' बता रहा है. इस संख्या को इस्तेमाल करने का तर्क भी मजेदार है. दरअसल जब इंटरनेट ब्राउज़र किसी वेबसाईट का पता नहीं लगा पता तो खाली पेज पर लिखा रहता है ४०४ इरर. बस वहीं से भाई लोग प्रेरित हो गए.

BAB: बोरिंग. यह आया है 'ब्रिंग अ बुक' पद से. इसका अर्थ यह है कि कोई चीज इतनी उबाऊ लग रही है कि इसके बजाए आप किताब पढ़ना ज्यादा पसंद करेंगे.

CYA: मतलब है 'कवर योर ऐस'. काम बिगड़ने पर जब लगता है कि अब ख़ैर नहीं तब यह कोड इस्तेमाल किया जाता है.

तो देखा आपने, यह युवा मोबाइल पीढ़ी कितनी रचनात्मक है. अपने लिए ऐसी भाषा गढ़ रही है जिसे वही लिखती है और वही समझती है. यहाँ यह स्पष्ट कर देना आवश्यक है कि अभी इन भाषा कोड का इस्तेमाल पश्चिमी देशों, खासकर ग्रेट ब्रिटेन में अधिक हो रहा है. कल्पना ही की जा सकती है कि इसे भारत पहुँचने में भला कितने दिन लगेंगे? यहाँ प्रस्तुत कुछ एसएमएस कोड वर्ड इंटरनेट की मदद से मैंने जुगाड़े हैं. कौन जाने इस बीच इस शब्दकोश में कुछ और कोड शब्द जुड़ गए हों!

शुक्रवार, 12 दिसंबर 2008

कह दो इन हसरतों से कहीं और जा बसें...: ज़फ़र


सन १८५७ के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में आख़िरी मुग़ल सम्राट बहादुरशाह ज़फ़र ने जननायक की भूमिका निभाई थी. ज़फर एक महान शायर भी थे. इस बुजुर्ग बादशाह ने अपनी पार्थिव देह दिल्ली की गोद में दफ़न कराने की इच्छा जताई थी. लेकिन मौत आई भी तो रंगून की जेल में. ज़फर की यह इच्छा पूरी करने का बीड़ा उठाया है लन्दन में रह रहे प्रवासी राजनीतिज्ञ एवं साहित्यकार डॉक्टर विद्यासागर आनंद ने. उन्होंने इसके लिए बाकायदा एक अभियान छेड़ रखा है. इसी कड़ी में प्रकाशित हुई है यह पुस्तक -'१८५७ के प्रथम स्वतंत्रता सेनानी और बहादुरशाह ज़फ़र'. प्रसिद्ध कवि-लेखक आलोक भट्टाचार्य ने इसकी समीक्षा विशेष तौर पर हमारे लिए की है. यह आख़िरी कड़ी है.

(पिछली कड़ी से जारी)... इन लेखों में एक मिर्ज़ा ग़ालिब लिखित 'दस्तंबू' पर आधारित लेख भी है. 'दस्तंबू' ग़ालिब द्वारा १८५७ की क्रान्ति के विफल हो जाने के बाद अंग्रेजों द्वारा दिल्ली के क्रूर क़त्ल-ए-आम और लूट-पाट का आंखों देखा वर्णन है.

पुस्तक ५ अध्यायों में विभाजित है. पृष्ठ ५ से ३६ तक संक्षिप्त हिस्सों में संदेश, समर्पण, श्रद्धा-सुमन, भूमिका आदि औपचारिकताएं हैं, लेकिन ये भी अत्यन्त पठनीय और उपयोगी हैं. पुस्तक पूर्व सांसद और 'फ्रीडम फाइटर्स एसोसिएशन' के संस्थापक अध्यक्ष पद्मभूषण शशिभूषण जी को समर्पित है. शुभकामना संदेशों में प्रमुख है ब्रिटिश सांसद वीरेन्द्र शर्मा (ईलिंग साउदोल संसद, हाउस ऑफ़ कामंस के सदस्य) का संदेश. डॉक्टर विद्यासागर आनंद की भूमिका भी अवश्य पठनीय है.

'ज़फ़र की पुकार' शीर्षक से जो दूसरा अध्याय है, यही वास्तव में पुस्तक का मूल अंश है. इसमें बहादुरशाह ज़फ़र, १८५७ की क्रान्ति, विभिन्न सेनानी, शहीदों आदि से सम्बंधित 31 लेख हैं जो हमें कई अनजान पहलुओं से परिचित कराते हैं. इनमें पंडित जवाहरलाल नेहरू का मौलाना अबुल कलाम आज़ाद को लिखा वह पत्र भी शामिल है जिसमें वह बहादुर शाह ज़फ़र की भारतीयता, उनकी महत्ता बताने के साथ-साथ ज़फ़र के पार्थिव अवशेषों को रंगून से लाकर दिल्ली में समाधिस्थ करने की जरूरत पर ज़ोर देते हैं.

हमें यह याद रखना चाहिए कि दिल्ली की मिट्टी में दफ़न होने की इच्छा बहादुरशाह ज़फ़र की तो थी ही, उनकी इस इच्छा की पूर्ति की दिशा में पंडित नेहरू ने पहल भी की थी. ध्यान देने की बात यह है कि भारतीय आज़ादी के निराले योद्धा नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की भी यही इच्छा थी; ज़फ़र के अवशेष दिल्ली ही लाए जाएँ. 'आज़ाद हिंद फौज़' के गठन की प्रक्रिया में ही जब नेताजी रंगून गए, तो ज़फर की समाधि पर फूल चढ़ाते हुए उन्होंने भी यही इच्छा जाहिर की, और ज़फर की समाधि से ही नेताजी ने अपना लोकप्रियतम, उत्तेजक, नसों में खून की गति तेज कर देने वाला नारा लगाया- 'दिल्ली चलो.'

एक अध्याय विभिन्न शायरों द्वारा ज़फ़र को श्रद्धा-सुमन अर्पित करते हुए रची गई काव्य-रचनाओं का है- 'काव्य-श्रद्धा.' और अन्तिम अध्याय है ज़फ़र की काव्य रचनाओं में से चुनी गईं कुछ रचनाएं- गज़लें, नग्मे, रुबाइयात वगैरह. ज़फ़र एक महान शायर थे. उनकी शायरी में उनकी राजनीतिक विफलता का दुःख तो है ही, अंग्रेजों द्वारा तीन बेटों की हत्या किए जाने का दारुण दुःख, अपनी मार्मिक असहायता, निकटतम मित्रों, बेगमों, रिश्तेदारों की गद्दारी आदि से उपजी भीषण हताशा भी है, लेकिन इन सबके बावजूद साम्प्रदायिक सौहार्द्र, उदार मानवतावाद, भारत की मिट्टी से उनका प्रेम, प्रकृति का असीम सौन्दर्य, ईश्वर के प्रति उनकी आस्था, ईंट-पत्थर के मन्दिर-मस्जिदों की बजाए मनुष्य के ह्रदय के मन्दिर-मसाजिद पर ज्यादा विश्वास जैसी ज़फ़र की अनेक मानवीय-चारित्रिक खूबियाँ भी बड़ी ही शिद्दत के साथ आयी हैं.

उर्दू के अनन्य सेवक 'माडर्न पब्लिशिंग हाउस', नई दिल्ली के स्वत्वाधिकारी प्रेमगोपाल मित्तल अवश्य ही इस अत्यन्त जरूरी, उपयोगी, एक राष्ट्रीय अभियान को गति देने वाली इस दस्तावेजी और विचारोत्तेजक पुस्तक को छापने के कारण प्रशंसा और धन्यवाद के पात्र हैं. पुस्तक तथा पुस्तक के सम्पादक के विषय में मित्तल जी के विचार फ्लैप पर दिए गए हैं. इस पुस्तक के संयोजन एवं प्रकाशन के पीछे जो भावना है वह प्रणम्य है. दो ही चार हिन्दी विद्वानों के अलावा इस पुस्तक के शेष सभी लेखक मुख्यतः उर्दू के विद्वान लेखक हैं. लेकिन उनकी इस महती कृति को हिन्दी पाठकों का आदर और स्नेह अवश्य मिलेगा.

अंत में पुस्तक के प्रकाशन के विषय में कुछ बातें. बहुत ही अच्छे कागज़ पर उत्कृष्ट छपाई, उत्कृष्ट बंधाई के साथ यह पुस्तक भीतर के रंगीन और ब्लैक एंड व्हाइट २९ अमूल्य छाया-चित्रों के साथ-साथ बेहद सुंदर मुखपृष्ठ के लिए पाठकों को अत्यन्त प्रिय लगेगी.

लेकिन पुस्तक पढ़ते समय एक कमी पाठकों को लगातार खटकती रहती है. वह है प्रूफ़ की अशुद्धियाँ. ऐसे प्रामाणिक दस्तावेजी ग्रन्थ में प्रूफ़ की अशुद्धियाँ होना ही नहीं चाहिए. जबकि इसमें इतनी ज्यादा हैं कि खीझ होती है. उद्धरण को उद्धर्न, लगन को लग्न, ऑफसेट को अफ्सेट, प्रेस को प्रैस, सेनानी को सैनानी, फ़ारसी को फार्सी पढ़ते हुए कोफ़्त होती है. ब्रिटिश सांसद का नाम छापा है विरेंद्र शर्मा! यदि वह स्वयं अपने नाम के हिज्जे इस तरह लिखते हों तो आपत्ति नहीं, उनकी मर्जी है, लेकिन भाषा में विरेंद्र तो होता नहीं; वीरेन्द्र ही होता है.

फ्लैप पर जो सामग्री है, उसके अंत में 'इस पुस्तक में' को वाक्य की शुरुआत में लिख दिए जाने के बाद भी फिर वाक्य के अंत में लिखा गया है, जो सही नहीं है. और तो और प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का वह अत्यन्त प्रसिद्ध बहादुर शाह ज़फ़र का शेर- 'गाज़ियों में बू रहेगी जब तलक ईमान की, तख्त-ए-लन्दन तक चलेगी तेग हिन्दुस्तान की' ग़लत छापा गया है. तख्त-ए-लन्दन की जगह 'तब तो लन्दन' छपा है. विश्वास है पुस्तक के अगले संस्करण में प्रूफ़ की तमाम भूलें सुधार ली जाएँगी. दस्तावेजी पाठ में हिज्जे की गलतियाँ भ्रम पैदा करती हैं. अतः उन पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए.

पुस्तक: '१८५७ के प्रथम स्वतंत्रता सेनानी और बहादुरशाह ज़फ़र', सम्पादक: डॉक्टर विद्यासागर आनंद, प्रकाशक: माडर्न पब्लिशिंग हाउस, ९ गोला मार्केट, दरियागंज, नई दिल्ली-११०००२. पृष्ठ ५७६, मूल्य ६०० रूपए.

बुधवार, 10 दिसंबर 2008

'१८५७ के प्रथम स्वतंत्रता सेनानी और बहादुरशाह ज़फ़र '


(पिछली कड़ी से जारी) ...

अपने उस बुजुर्ग के प्रति इसी राष्ट्रीय कर्त्तव्य की जिम्मेदारी निबाहने के उद्देश्य से हिन्दी-उर्दू के प्रसिद्ध साहित्यकार-शायर, लन्दन प्रवासी राजनीतिज्ञ हिन्दी-उर्दू-अँग्रेजी में ५० से अधिक पुस्तकों के लेखक डॉक्टर विद्यासागर आनंद ने एक अभियान छेड़ रखा है- बहादुरशाह ज़फ़र की पार्थिव देह के अवशेष उनकी रंगून (अब म्यानमार, पूर्व में बर्मा) स्थित मजार से उनके देश, उनकी मातृभूमि भारत और उनके जन्मस्थान दिल्ली लाकर सूफी संत कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी की समाधि के निकट अपने पूर्वजों की कब्रों के पास ख़ुद अपने लिए चुने स्थान पर दफ़न करके मकबरा बनाना और इस तरह उनकी अन्तिम इच्छा के अनुसार उनके 'कू-ए-यार' में उन्हें 'दो गज ज़मीन' दिलवाना, जो उनका हक़ है.

अन्तिम मुग़ल सम्राट के तौर पर जाने जानेवाले बहादुरशाह ज़फ़र तैमूर-बाबर-हुमायूं-अकबर-जहाँगीर-शाहजहाँ के महान वंशज तो थे ही, धोखेबाजी और चालाकी से भारत पर कब्ज़ा जमा लेने वाले धूर्त्त अंग्रेजों के ख़िलाफ़ बगावत को नेतृत्व देनेवाले सर्वोच्च सेनानी भी थे. ज़फ़र एक उत्कृष्ट शायर थे. उर्दू साहित्य के इतिहास में मीर-ज़ौक-ग़ालिब-मोमिन के समान ही उनका महत्वपूर्ण स्थायी मुकाम है. वह सूफी धारा के एक ऐसे संत थे जो शराब-अफीम छूते तक नहीं थे. जातिवाद-सम्प्रदायवाद के कट्टर विरोधी उदार मानवतावादी दार्शनिक एवं हिन्दू-मुस्लिम एकता के प्रतीक थे ज़फ़र. ऐसे बहादुरशाह ज़फ़र अपनी इच्छा के विरुद्ध रंगून की एक समाधि में पड़े रहें, यह लाखों देशभक्तों की ही तरह डॉक्टर विद्यासागर आनंद को भी नागवार है, और उन्होंने १० मार्च २००७ को लन्दन में अप्रवासी भारतीय और भारतीय विद्वानों की एक सभा में अपने इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए एक विश्व समिति का गठन किया था- 'प्रथम स्वतंत्रता संग्राम १८५७ की विश्व यादगारी समिति.'

सन २००७ भारत के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम का एक सौ पचासवां साल भी था. सो समिति ने भारत सरकार को; बहादुरशाह ज़फ़र के पैतृक मकान, यानी दिल्ली के ऐतिहासिक लाल किले के मौजूदा व्यवस्थापकों को और सम्बद्ध तमाम प्रशासनिक विभागों, मंत्रालयों को एक ज्ञापन भेज कर यह मांग की थी कि ज़फ़र के पवित्र दैहिक अवशेषों को रंगून से दिल्ली लाकर उचित जगह समाधिस्थ किया जाए.

साथ ही समिति ने देश-विदेश के तमाम सम्बंधित इतिहासकारों, लेखकों, पत्रकारों एवं राजनेताओं से भी आग्रह किया कि वे इस अभियान को अपना सहयोग देते हुए इस विषय पर लेख लिखें. उन्हीं महत्वपूर्ण लेखों का संपादित संकलन है यह पुस्तक- '१८५७ के प्रथम स्वतंत्रता सेनानी और बहादुरशाह ज़फ़र'

पुस्तक में संकलित ३७ लेखों में बहादुरशाह ज़फ़र के विषय में तो है ही, स्वतंत्रता-संग्राम तथा उसके अन्यान्य नायकों, शहीदों, चरित्रों के विषय में भी बहुत-सी ऐसी जानकारियां दी गयी हैं जो आम भारतीयों के साथ-साथ पूरे विश्व को भी मालूम होना चाहिए. जानकारियों एवं प्रसंगों की प्रामाणिकता पुष्ट करने वाले तथ्यात्मक दस्तावेजी सबूत भी हैं. पृष्ठ ३११ से ४८८ तक का जो अध्याय है -'पुराने पन्नों से,' वह तो प्रामाणिक दस्तावेजों के आधार पर लिखे गए प्रसिद्ध इतिहासकारों और विद्वानों के अत्यन्त ही वैचारिक और सूचनात्मक लेखों का ही संकलन है, जिसमें स्वतन्त्र भारत के प्रथम शिक्षामंत्री, अरबी-फारसी-उर्दू-अँग्रेजी के प्रकांड विद्वान मौलाना अबुल कलाम आज़ाद, प्रसिद्द शायर मख़मूर सईदी जैसे लेखक-चिन्तक शामिल हैं.

...अगली कड़ी में जारी

मंगलवार, 9 दिसंबर 2008

'कू-ए-यार में' आखिर कब मिलेगी 'दो गज ज़मीन?'


सन १८५७ के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में आख़िरी मुग़ल सम्राट बहादुरशाह ज़फर ने जननायक की भूमिका निभाई थी. ज़फर एक महान शायर भी थे. इस बुजुर्ग बादशाह ने अपनी पार्थिव देह दिल्ली की गोद में दफ़न कराने की इच्छा जताई थी. लेकिन मौत आई भी तो रंगून की जेल में. उनका दर्द उन्हीं की इन पंक्तियों में झलकता है- 'कह दो इन हसरतों से कहीं और जा बसें, इतनी जगह कहाँ है दिल-ए-दागदार में. कितना है बदनसीब ज़फर दफ्न के लिए, दो गज ज़मीन भी न मिली कू-ए-यार में.' ज़फर की यह इच्छा पूरी करने का बीड़ा उठाया है लन्दन में रह रहे प्रवासी राजनीतिज्ञ एवं साहित्यकार डॉक्टर विद्यासागर आनंद ने. उन्होंने इसके लिए बाकायदा एक अभियान छेड़ रखा है. इसी कड़ी में प्रकाशित हुई है यह पुस्तक -'१८५७ के प्रथम स्वतंत्रता सेनानी और बहादुरशाह ज़फर'. प्रसिद्ध कवि-लेखक आलोक भट्टाचार्य ने इसकी समीक्षा विशेष तौर पर हमारे लिए की है. यह चार-पाँच कड़ियों में प्रस्तुत होगी- विजयशंकर चतुर्वेदी.

हिन्दुस्तान के बादशाह थे वह- शानदार मुग़ल परम्परा के सम्राट! जाने कितने-कितने लोगों को, कितने मंदिरों, मस्जिदों, गुरुद्वारों, कितनी संस्थाओं को कितनी ज़मीन दी उन्होंने! उन्हीं का तो घर है वह, उनका जन्मस्थान, उनके बचपन का आंगन, उनकी जवानी का महल, उनकी बादशाहत का शाही दरबार- वह लाल क़िला, जिसकी प्राचीर से आज भी हर साल १५ अगस्त और २६ जनवरी को भारत का तिरंगा फहराया जाता है- इतने विशाल हिन्दुस्तान के उस अन्तिम मुग़ल सम्राट को, जिसने सबको दिया, ख़ुद उसके माँगने के बावजूद हम उसे आज तक उसके 'कू-ए-यार' में दो गज ज़मीन भी न दे सके! उसकी अन्तिम इच्छा पूर्ण नहीं कर सके?

जबकि यह हमारा राष्ट्रीय फ़र्ज़ भी था. बहादुरशाह ज़फर सिर्फ़ भारत के अन्तिम मुग़ल सम्राट ही नहीं थे, वह प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महानायक भी थे. उन्हीं के नेतृत्त्व में लड़ा गया था १८५७ का वह पहला महासंग्राम, अँग्रेजी हुकूमत के ख़िलाफ़ आज़ादी की वह पहली जंग. आज़ादी के दीवाने विद्रोही सिपाहियों को नेतृत्व देने वाले ८२ वर्ष के उस बुजुर्ग बादशाह ने अकथनीय तकलीफें झेलीं. जब अँग्रेज जनरल हडसन ने बादशाह के तीनों शाहजादों मिर्ज़ा खिज़र सुलतान, मिर्ज़ा मुग़ल और अबू बकर के कटे हुए सर क़ैदी बादशाह के आगे थाल में सजा कर पेश किए, तब बादशाह के दिल पर क्या गुज़री होगी, सोच कर कलेजा मुंह को आता है! सोचिए ज़रा, हिन्दुस्तान के उस बादशाह को क़ैद करके दिल्ली से रंगून बैलगाड़ी में ले जाया गया और जेल की एक तंग कोठरी में घुट-घुट कर मरने को मजबूर कर दिया गया! क्या उसके प्रति हमारा कोई कर्त्तव्य नहीं?

(अगली कड़ी में जारी)